बच्चों की मौखिक अंग्रेजी बेहतर करने के तीन आसान तरीके

Posted by Mohammed Thousif on Sep 2, 2021 11:34:20 AM
Mohammed Thousif

Tags: Parents

Find me on:
Usage of English language by children

आज की आपस में गुंथी हुई वैश्वीकृत दुनिया में, अंग्रेजी ही विभिन्न समूहों के बीच संचार की प्रमुख भाषा है। हमारी दुनिया आज एक वैश्विक ग्राम में तब्दील हो चुकी है और इसमें प्रभावी ढंग से संलग्न होने के लिए मौखिक अंग्रेजी में प्रवीण होना एक अनिवार्य कौशल है। अधिकांश भारतीय स्कूलों में, छात्रों को स्कूली परीक्षा पास करने पर ही महत्व दिया जाता है और इन परीक्षाओं में सिर्फ अंग्रेजी को पढ़ने, लिखने और उसकी व्याकरण संबंधी पहलुओं को ही महत्व दिया जाता है। इनमें किसी भी तरह से छात्रों की मौखिक अंग्रेजी को परखा नहीं जाता। ज़्यादातर भारतीय छात्रों में मौखिक अंग्रेजी का कौशल विकसित न हो पाने का यही मुख्य कारण है।

क्या आप अपने बच्चों की मौखिक अंग्रेजी बेहतर करने में मदद करना चाहते हैं? यदि हाँ, तो इस लेख में हम आपको तीन आसान तरीके बताएँगे जिससे आपका बच्चा बेहतर अंग्रेजी बोल पायेगा।

बोलिए, थोड़ा और बोलिए, और बोलते रहिये:


आपने यह कहावत सुनी होगी “करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान। रसरी आवत जात ते, सिल पर परत निसान” अंग्रेजी बोलना भी कोई अलग क्रिया नहीं है और अंग्रेजी बोलने में बेहतर बनने का सबसे अच्छा तरीका है: बोलना!!

कई मामलों में, भारतीय माता-पिता स्वयं धाराप्रवाह अंग्रेजी नहीं बोल पाते और नतीजतन, वे बच्चों को घर पर अंग्रेजी बोलने के अभ्यास में मदद नहीं कर पाते। इसलिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि ऐसे अभिभावक अपने बच्चों को यह ज़रूर समझाएं कि स्कूल में ही, जितना संभव हो, उतना ज्यादा अंग्रेजी में वार्तालाप करें। स्कूल में अपनी ही आयुवर्ग के छात्रों के साथ होने की वजह से वे आपस में, बिना झिझके, अपने अंग्रेजी बोलने की क्षमता बढ़ा सकते हैं। यदि बच्चों को दोस्तों का एक अच्छा समूह मिल जाये तो वो हंसी मजाक करते हुए एक-दूसरे की गलतियां भी सुधार सकते हैं ! अपने बच्चों को ऐसे अंग्रेजी बोलने वाले दोस्तों का समूह बनाने के लिए ज़रूर प्रोत्साहित करें।

आप अपने बच्चे और उनके दोस्तों के लिए एक साप्ताहिक वीडियो कॉल की व्यवस्था भी कर सकते हैं, जिसमें वे एक दूसरे से किसी पूर्व निर्धारित विषय पर अंग्रेजी में चर्चा करें। उदाहरण के लिए, हर सप्ताह बच्चे आपस में ही कोई वीडियो या फिल्म देखने का फैसला कर सकते हैं और फिर सप्ताहांत में वीडियो कॉल पर उस वीडियो या फिल्म पर चर्चा कर सकते हैं। बच्चों को प्रेरित करें की यह चर्चा वे यथासंभव अंग्रेजी में ही करें और उस वीडियो या फिल्म में उन्हें क्या पसंद और नापसंद आया उसे बताएं। यह बच्चों की मौखिक अंग्रेजी को विकसित करने का एक मज़ेदार अवसर बनेगा।

अपने बच्चों की शब्दावली समृद्ध करें:

Blog 06_Word wall (1)

(फोटो: फ्लैशकार्ड का एक सेट)

किसी भी भाषा को कुशलता से बोलने के लिए और उस भाषा में खुद को स्पष्ट रूप से व्यक्त करने के लिए आपको उस भाषा के शब्दों का ज्ञान होना अनिवार्य है। बच्चों की शब्दावली को बेहतर करने के लिए कई अच्छे ऑनलाइन संसाधन उपलब्ध हैं। गूगल पर "अंग्रेजी शब्दावली में सुधार कैसे करें" टाइप करें। इससे आपको ढेरों रोचक और उपयोगी संसाधन मुफ्त में मिल जाएंगे। ध्यान रखें की उपलब्ध संसाधनों की बहुलता से ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि आप इन संसाधनों का किस प्रकार उपयोग करते हैं। एक साथ ढेर सारी वेबसाइटों का इस्तेमाल न करें, बल्कि इनमें से कुछ अच्छे संसाधनों का चयन करें और इनमें जो भी निर्देश दिए गए हों, उनका ध्यानपूर्वक पालन करें।

अच्छी शब्दावली बनाने का एक आसान तरीका फ्लैशकार्ड बनाना है। मान लीजिए आपके बच्चों ने तीन महीने में 100 नए शब्द सीखने का लक्ष्य रखा है। बच्चों को चार्ट पेपर और स्केच पेन का इस्तेमाल कर के प्रत्येक शब्द के लिए एक फ्लैशकार्ड बनाने को बोलें। हर फ्लैशकार्ड के एक तरफ एक नया शब्द लिखवायें और दूसरी तरफ शब्दार्थ लिखवायें। बच्चों को हर रोज़ कम से कम पांच फ्लैशकार्ड आगे-पीछे देखने को बोलें। इसे करने में मुश्किल से 10-15 मिनट ही लगेंगे लेकिन यदि इस पद्धति का निरंतर एवं नियमित रूप से पालन किया जाये तो यह आपके बच्चे की शब्दावली में सार्थक सुधार कर सकता है।

नये सीखे हुए शब्दों की त्वरित समीक्षा के लिए आप अपने घर में एक रंगीन 'वर्ड वॉल' भी बना सकते हैं। जब भी आपका बच्चा कोई नया शब्द सीखता है, तो उन शब्दों के छोटे-छोटे रंगीन कार्ड बनाएं। इन कार्डों को एक दीवार पर लगाते रहें (नीचे दी गई तस्वीर देखें)। इस तरह आपका बच्चा अपनी दैनिक दिनचर्या के दौरान ही इन शब्दों को जल्दी से देख सकता है। इससे ये नये शब्द बच्चे की स्मृति में बने रहेंगे और बोलने के दौरान वो इन शब्दों का प्रयोग कर पायेगा।

शुद्ध उच्चारण करने पर मेहनत करें:

(फोटो:: गूगल Description: गूगल पर उच्चारण-संबंधी खोज परिणाम का नमूना)

मौखिक अंग्रेजी में प्रवीण के लिए शुद्ध उच्चारण अनिवार्य है। यह ज़रूरी नहीं की आपका बच्चा ब्रिटिश लहजे या अमरीकी लहजे में बोलें, लेकिन यह अनिवार्य है की वो शब्दों के सटीक उच्चारण से परिचित हो। उदाहरण के लिए, बहुत से भारतीय 'often' शब्द का गलत उच्चारण करते हैं। वे आमतौर पर इसे 'ऑ-फन ' के बजाय 'ऑफ-टन' बोलते हैं।

आप सामान्य रूप से गलत उच्चारित अंग्रेजी शब्दों पर एक-एक कर काम कर सकते हैं जिससे आपका उच्चारण शुद्ध होता जायेगा। गूगल पर ‘_______ pronunciation’ लिखकर उस शब्द को देखें और गूगल आपको बताएगा कि इसका उच्चारण कैसे किया जाता है। आप ड्रॉप-डाउन मेनू में अपना पसंदीदा लहजा भी चुन सकते हैं (नीचे दी गई तस्वीर देखें), जैसे भारतीय, अमेरिकी या ब्रिटिश और उस लहजे में उस शब्द का सही उच्चारण सुन सकते हैं।

छोटे बच्चों के लिए भाषा सीखना विशेष रूप से कठिन नहीं होता। उन्हें केवल नित्य अभ्यास और एक सकारात्मक वातावरण की आवश्यकता होती है। बच्चों को मौखिक अंग्रेजी सिखाने के लिए आप जो भी तरीका अपनाएं, यह ज़रूर ध्यान रखें की उन तरीकों में कुछ मजेदार आयाम ज़रूर हो। ऐसे नियमित अभ्यासों से आपका बच्चा कुछ ही समय में मौखिक अंग्रेजी में धाराप्रवाह बन जायेगा।

LEAD का English Language and General Awareness (ELGA) programme बच्चों का कौशल विकसित करने पर केंद्रित है और यह मल्टी-ऐज कक्षाओं में एक लेवल बेस्ड दृष्टिकोण का उपयोग करता है। LEAD अंग्रेजी भाषा के ज्ञान का विश्लेषण करने के लिए विभिन्न स्थानों के छात्रों और अभिभावकों के साथ इंटरव्यू की व्यवस्था भी करता है। इस अभ्यास के बाद LEAD अभिभावकों को जो रिपोर्ट प्रस्तुत करता है, उसमें मौजूद सही संकेतकों से उन्हें अपने बच्चे की क्षमता की सही पहचान करने में मदद मिलती है।

LEAD बच्चों को भविष्य के लिए तैयार करने में मदद कर रहा है। अपने बच्चे का LEAD संचालित स्कूल में नामांकन कराने के लिएःअभी एडमिशन फॉर्म भरें

About the Author
Mohammed Thousif
Mohammed Thousif

Mohammed Thousif is the Key Account Manager at LEAD. He believes in an equitable education system and is passionate about student learning and school growth. He has worked with schools and stakeholders to understand their challenges and help them grow. Mohammed has finished his MBA in Operations.

LinkedIn
Give your school the LEAD advantage